धर्म

सनातन वैदिक राष्ट्र की स्थापना और सनातन धर्म की रक्षा के हेतु शिवशक्ति धाम डासना में होगा बगलामुखी महायज्ञ

IMG-20210707-WA0015

धर्म व परिवार की रक्षा हेतु विजय और सदबुद्धि की देवी माँ बगलामुखी की साधना विशेष फलदायी-यति नरसिंहानन्द सरस्वती जी महाराज

गाजियाबाद। आषाढ़ की गुप्त नवरात्रि की छठ 16 जुलाई 2021 से गुरु पूर्णिमा तक शिवशक्ति धाम डासना में सनातन वैदिक राष्ट्र की स्थापना,सनातन धर्म की रक्षा और सनातन धर्म को मानने वालो की संतान की रक्षा और सनातन
धर्म के शत्रुओं के समूल नाश की कामना से माँ बगलामुखी का पांच दिवसीय महायज्ञ आरम्भ किया जाएगा।
आज गाज़ियाबाद के नासिरपुर स्थित शिवशक्ति मन्दिर में एक प्रेस वार्ता के माध्यम से महायज्ञ के विषय मे बताते हुए अखिल भारतीय सन्त परिषद के राष्ट्रीय संयोजक यति नरसिंहानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा की आज सनातन धर्म का अस्तित्व खतरे में दिखाई देता है।मुस्लिमो की बढ़ती हुई भयावह और नाजायज आबादी ने न केवल भारतवर्ष अपितु सम्पूर्ण विश्व के अस्तित्व को खतरे में डाल दिया है।हिन्दुओ के घटते हुए जनसंख्या अनुपात ने यह तय कर दिया है कि 2029 में भारत का प्रधानमंत्री मुस्लिम होगा। इसका अर्थ है कि अगले केवल 20 वर्षों में 40 प्रतिशत हिन्दुओ का कत्ल हो जाएगा,50 प्रतिशत हिन्दू धर्म परिवर्तन करने पर मजबूर हो जायेगे और बचे हुए 10 प्रतिशत हिन्दू विदेशों में या शरणार्थी शिविर में रह जाएंगे।अब हमारे ऊपर अभूतपूर्व संकट की घड़ी है जिससे सनातन धर्म और हिन्दू समाज को बचाना सभी हिन्दू धर्मगुरुओं का नैतिक दायित्व है।

FB_IMG_1625228496898
ऐसे में सनातन धर्म के सभी धर्मगुरुओं को सभी हिन्दुओ को विजय और सद्बुद्धि की देवी माँ बगलामुखी और महादेव की साधना करनी चाहिये।सदबुद्धि प्राप्त होने से ही हिन्दू अपने अस्तित्व के लिये संघर्ष कर सकेगा और सनातन धर्म,अपने परिवार और अपने अस्तित्व की रक्षा में सक्षम बन सकेगा।उन्होंने यह भी कहा कि सम्पूर्ण विश्व में सनातन धर्म से बढ़कर कुछ भी नहीं है। अर्थ है सम्पूर्ण मानवता और अच्छाई का विनाश हो जाना।जब भी कोई मानव धर्म की रक्षा के लिये माँ बगलामुखी की शरण मे गया है तो माँ ने धर्म की रक्षा की है।आज हम भी धर्म की रक्षा के लिये माँ बगलामुखी की शरण में हैं और मुझे पूर्ण विश्वास है की माँ हमारी अवश्य ही धर्म की रक्षा करेंगी।
IMG_20200519_162327
उन्होंने यह भी कहा कि अब हर हिन्दू को छोटे छोटे स्वार्थों को छोड़कर सनातन वैदिक राष्ट्र के लिए संघर्ष करना चाहिए।अब यदि सनातन के पास इजराइल के यहूदियों की तरह अपना एक राष्ट्र नहीं होगा तो संरण धर्म बच ही नही सकेगा।अतः अब सभी हिन्दू धर्मगुरुओं और संगठनो को एकमत होकर ऐसे सनातन वैदिक राष्ट्र,जहाँ एक भी जिहादी, मस्जिद, मदरसा या पीर न हो,के लिए संघर्ष करना चाहिए।
उन्होंने यह भी कहा कि अब हिन्दुओ को ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा करने चाहिए ताकि उनका और उनके परिवार का अस्तित्व केवल नेताओ के भरोसे न रह जाए।
उनके साथ पत्रकार वार्ता में राजेंद्र मित्तल मेदि वाले, रविन्द्र त्यागी एडवोकेट,अनिल यादव,जगदीश पंडित जी, दीपक त्यागी,अजय त्यागी, बिट्टू त्यागी,प्रेमप्रकाश त्यागी,सुंदर मोतले, सचिन यादव,कुणाल त्यागी तथा अन्य गणमान्य उपस्थित थे।