व्यापार

व्यापारियों ने मुख्यमंत्री के नाम सौपा ज्ञापन, बिजली के बिलों में राहत की करी मांग

IMG-20200606-WA0026

गाजियाबाद।(कल्पना आर्या) उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के जिला अध्यक्ष प्रीतम लाल ने जिलाधिकारी की अनुपस्थिति में एडीएम को ज्ञापन सौंपा। प्रीतम लाल ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देते हुए बताया कि 22 मार्च 2020 से कोविड महामारी को देखते हुए सरकार द्वारा लॉक डाउन घोषित किया गया था। जिस के चलते 4 चरणों में बाजार व उद्योग पूर्णयता बंद रहे। बंदी के दौरान कार्यरत कर्मचारी व मजदूरों को उनके वेतन का भुगतान भी प्रतिष्ठान बंद होने के बाद भी किया गया। इसके साथ ही व्यापारियों ने समाज में असहाय प्रवासी व निर्धन नागरिकों को भोजन व राशन सामग्री का वितरण नियमित कर सरकार की व्यवस्था में अपना महत्वपूर्ण योगदान भी दिया।

IMG_20200519_162327
उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल की प्रांतीय स्तर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बैठक में व्यापारी कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष रविकांत गर्ग ने बताया कि सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि अप्रैल व मई की अवधि का बिजली बिल केवल प्रयोग की गई यूनिट के आधार पर ही लिया जाएगा। अन्य कोई चार्ज वसूला नहीं जाएगा लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से विद्युत विभाग द्वारा नियमित बिल की तरह बिल प्रेषित किया गया साथ ही समय से बिल ना जमा करने पर पेनेल्टी का प्रावधान किया गया है।
प्रीतम लाल ने ज्ञापन के माध्यम से मुख्यमंत्री से निवेदन करते हुए कहा कि तत्काल प्रभाव से उक्त अवधि का बिजली का बिल माफ करने के आदेश पारित किये जाने चाहिए क्यो की व्यापारी सदैव सरकार के साथ तन मन धन से मदद करता रहा है आज जबकि व्यापारियों की वित्तीय स्थिति बहुत अधिक खराब है वह किसी तरीके से अपने परिवार व कर्मचारियों के परिवार का भरण पोषण कर रहा है इस स्थिति में बिजली का बिल लेना व्यापारियों के साथ अन्याय पूर्ण है अतः इन दोनों महीनों के बिलों का भुगतान केवल यूज करी हुई रीडिंग के अनुसार ही होना चाहिए।